अवचेतन मन को कैसे उपयोग करें?

0
319

साइकिल को पहली बार में चलाना और फिर वर्षों बाद भी चला लेना कियूंकि कब इधर कब उधर घूमना है यह आपकी मस्तिष्क में अंकित हो चुका होगा।

  1. कभी अलार्म पर उठे हो नहीं उठ पाते कभी कभी पर जब समस्या सर पर आ बैठती है तो अलार्म की कोई जरूरत नहीं।
  2. अपने बारे में सोचो कि मैं खूबसूरत हूं और आपको यह बात एक अरब बार मालूम है और कोई आ कर कहे की तुम तो बेकार दिखते हो तो आपको उसकी बात मज़ाक मालूम पड़ेगी पर यदि आप खुद को जो मानते है दूसरा भी वहीं कहे तो आप उससे लड़ोगे।
  3. दिमाग को पता नहीं है कि आप हो क्या आप यदि हस्ते हो तो दिमाग भी हासेगा यदि दुःखी होंगे तो दिमाग 100 बाते ऐसी करेगा की परेशान हो जाओगे। अपनी गरीबी मत देखो अमीरी देखी।
  4. मैंने एक फिल्म में देखा था कि जब उनका दोस्त सोया हुआ था तब उसको कुछ बोलते थे।और सुबह वह वहीं बात करता था।
  5. जैसे आप चलते है थकान लगती है तो अपने मन को बोलो कि थोड़ा और चलते है और फिर चलते है थोड़ा 10 कदम और 20 कदम और आप कभी अपनी सीमा को लांघ नहीं पाओगे।
  6. अमेरिकी विशेष रक्षा सेवा के सैनिक को इतना कठिन ट्रेनिंग होती है कि वह टूट जाते है उनको बार बार बोला जाता है कि छोड़ दो नहीं कर पाओगे ।अगर कोई गलती करता था तो उसको ठंड के समय समुद्र में का कर फिर वापिस आ कर पूरी तरह रेत पर लोट पोट कर आना पड़ता है।
  7. इंसान की शक्ति अनंत है पर इंसान अपने को रोकता है। अगर डर हो तो वह ऊंची दीवार भी फांद लेता है।अगर पीछे शेर पड़ा हो तो कोई भी इंसान तेज भाग लेता है। या पेड़ पर चढ जाता है।
  8. अभ्यास कियू किया जाता है कहा जाता है ना कि जितना पसीना अभ्यास में लगेगा उतना खून कम जंग के मैदान में बहेगा।
  9. विश्वास करना पड़ता है अपनी शक्ति पर अगर आप मान लो तो हर जाओगे।जब कोई इंसान जिम जाता है तो पहली बार में यदि 100 150 किलो उठायेगा तो दर्द से मर जाएगा पर अभ्यास से कर सकता है।
  10. दिमाग को तैयार करना पड़ता है।