क्या आपको हावड़ा ब्रिज के बारे में ये बाते पता है

0
860

हावड़ा ब्रिज पश्चिम बंगाल के कोलकाता और हावड़ा को जोड़ने वाला एक ब्रिज है। यह असल में एक “कैंटिलिवर पुल” यानी झूले जैसा पुल है जो केवल 4 खंबों पर टिका है। इस पुल में एक भी नट बोल्ट नहीं है और यह अपनी तरह का छठा सबसे बड़ा पुल है। इस पुल का मूल नाम “न्यू हावड़ा ब्रिज” था पर 14 जून 1965 में इसका नाम महाकवि रबीन्द्रनाथ टैगोर की स्मृति में रवींद्र ब्रिज रख दिया गया। आज भी यह हावड़ा ब्रिज के नाम से ज़्यादा जाना जाता है।

 

 

 

 

हावड़ा ब्रिज का निर्माण पहली बार 1862 में प्रस्तावित किया गया था। बंगाल सरकार हुगली नदी पर एक पुल का निर्माण करना चाहती थी। उन्होंने ईस्ट इंडिया रेलवे कंपनी के चीफ इंजीनियर को प्रस्ताव का अध्ययन करने और एक योजना के साथ आने के लिए कहा। लेकिन कई कारणों से, उनकी योजना उस समय अमल नहीं हुई।

बाद में 1800 के दशक में, हावड़ा और कोलकाता के बीच एक पंटून पुल या फ्लोटिंग ब्रिज बनाया गया था। लेकिन यह इतना मजबूत नहीं था कि दोनों शहरों के बीच के विशाल ट्रैफिक को संभाले या क्षेत्र में बार-बार आने वाले तूफानों का सामना कर सके। इसलिए बंगाल सरकार ने विकल्प तलाशना जारी रखा और कई दशकों बाद आखिरकार नए पुल का निर्माण हुआ। इसे बनाने का ठेका द ब्रैथवेट बर्न और जेसोप कंस्ट्रक्शन नामक कंपनी को दिया गया था। यह ब्रिज 1943 में बनकर तैयार हुआ।