पुष्पा फिल्म का रक्त चंदन काल्पनिक नहीं है

0
136

हाल ही में बात की जाए तो साउथ इंडस्ट्री के मशहूर अभिनेता अल्लू अर्जुन की फिल्म पुष्पा रिलीज हुई थी या फिर मैं सुपर हिट साबित हुई थी इस फिल्म में अभिनेता अल्लू अर्जुन के साथ रश्मिका मंदाना भी दिखाई दी थी फिल्म अल्लू अर्जुन ने भी अपनी एक्टिंग से सभी दर्शकों का दिल जीता था हर कोई इसी फिल्म की बातें कर रहा था यदि आपने भी यह फिल्म देखी है तो आपको भी पता होगा कि इस फिल्म की कहानी भारत का लाल सोना यानी कि रक्त चंदन के बारे में बताया गया है फिल्म में पूरी तरह से रक्त चंदन की तस्करी की है वही फिल्मों में देखने को मिला है कि कैसे रक्तचंदन आंध्र प्रदेश के जिलों में पाया जाता है और इस बिक्री की बात करो रुपए की होती है आज भी भारत में यही सामान्य बनी हुई है कि आज भी भारत के लाल सोना की तस्करी जारी है और होती रहती है बहुत बड़ी मात्रा में।

फिल्म पुष्पा मैं दिखाया गया था कि कैसे तस्कर रक्त चंदन की लकड़ियों को काटकर भारत से बाहर भेजते हैं और करोड़ों रुपए कमाते भी हैं रक्त चंदन की तस्वीरें में नेता बड़े कारोबारी और माफिया तक भी शामिल रहते हैं लेकिन आपको बताना चाहेंगे कि लाल चंदन को विलुप्त होने की श्रेणी में आ गया है अंतरराष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण में रक्त चंदन को विलुप्त होने वाली प्रजाति की श्रेणी में रख दिया है रिपोर्ट की मानें तो रक्तचंदन अब पूरी घाटों में ही बचा है दो हजार अट्ठारह में रक्त चंदन को इस श्रेणी में रखा गया था की रिपोर्ट के अनुसार रक्त चंदन की संख्या पिछले 3 पीढ़ियों से 50 से 80 % की गिरावट देखी गई है।

भारत की बात करें तो रक्त चंदन की तस्करी बहुत ज्यादा मात्रा में होती है इसे रोकने के लिए बहुत सारे संगठनों का भी निर्माण किया गया है रिपोर्ट की मानें तो भारत में करीब 2021 में 508 करोड़ रुपए के रक्त चंदन की लकड़ियां जप्त की गई थी जिसमें 342 तस्करों को गिरफ्तार भी किया गया था इसके लिए फोर्स बनाए गए हैं।

जानकारी के मुताबिक बात की जाए तो रक्त चंदन के पेड़ धीरे-धीरे विलुप्त होते जा रहे हैं इसके लिए लकड़ियों का घनत्व भी काफी ज्यादा बढ़ गया है यह पानी में भी काफी तेजी से डूब जाते हैं और विदेशों में रक्त चंदन की भारी डिमांड है सिंगापुर चीन ऑस्ट्रेलिया जापान और युवाओं में इस लकड़ी की बहुत ज्यादा मांग है यह भी माना जाता है कि जब चीन में मिल राजवंश का शासन था तब वहां से लोगों भी लकड़ी को खूब पसंद करते थे चौधरी और 17वीं शताब्दी के बीच रक्षण से बने फर्नीचर को भी खूब इस्तेमाल किया जाता था आज भी चीन के रक्त चंदन संग्रहण में इस लकड़ी से बनी कलाकृतियां भी काफी महंगी बिकती है और डिमांड भी रक्त चंदन की काफी ज्यादा है।